.
Skip to content

आजकल की बहुएँ

हेमा तिवारी भट्ट

हेमा तिवारी भट्ट

लघु कथा

September 30, 2017

लघुकथा-आजकल की बहुएँ

“मम्मी जी,चाय बना दूँ क्या आपके लिए?” ड्यूटी से अभी अभी लौटी सुधा ने हाथ मुँह धोकर किचन का रुख किया।आज ऑफिस में बहुत काम था।वह थक गयी थी और आराम करना चाहती थी।पर….
“हाँ,अदरक वाली बनाना और उनसे भी पूछ ले।चाय को तो मना कर रहे थे शायद।” “पापा जी आप के लिए क्या बनाऊँ?चाय पियेंगे क्या”
“नहीं बेटा,मेरे लिए तो तू टमाटर का सूप बना दे।”
“मम्मी!दादी के लिए चाय बना रही हो तो साथ में मेरे लिए आलू के पकौड़े बना दो,बड़ा मन कर रहा है पकौड़े खाने का”राशि ने टीवी देखते हुए आवाज लगायी।
“अब तू भी बता दे रमन तुझे क्या खाना है?”
“आपने प्रॉमिश किया था कल बर्गर का,याद है न बस अपना प्रॉमिश पूरा कर दो।”
“बेटा अभी तू भी राशि के साथ पकौड़े ही खा ले।बर्गर फिर किसी दिन बना दूँगी।”
“अरे कैसी माँ है,बच्चे की एक फरमाइश पूरी नहीं कर सकती वैसे भी सुबह ड्यूटी जाते समय तो ऐसे ही उल्टा सीधा टिफिन तैयार करती है एक शाम को ही बच्चे फरमाइश करते हैं।आ बेटा रमन,दादी बनायेगी अपने बच्चे के लिए बर्गर”कमरे में बैठे बैठे ही दादी ने बात सुनायी।
सुधा के पास अब सबके अपने अपने विकल्प थे पर वह क्या चुने इसका कोई विकल्प नही था।अन्दर से सासू जी की आवाज आ रही थी,”अरे आजकल की बहुएँ तो दो लोगों का चाय नाश्ता बनाने में थक जाती हैं।एक हम थे दस दस लोगों की रोटियाँ बनाते थे।”

✍हेमा तिवारी भट्ट✍

Author
हेमा तिवारी भट्ट
लिखना,पढ़ना और पढ़ाना अच्छा लगता है, खुद से खुद का ही बतियाना अच्छा लगता है, राग,द्वेष न घृृणा,कपट हो मानव के मन में , दिल में ऐसे ख्वाब सजाना अच्छा लगता है
Recommended Posts
ग़ज़ल ( मम्मी तुमको क्या मालूम )
ग़ज़ल ( मम्मी तुमको क्या मालूम ) सुबह सुबह अफ़रा तफ़री में फ़ास्ट फ़ूड दे देती माँ तुम टीचर क्या क्या देती ताने , मम्मी... Read more
फौजी मुझे बना दे मम्मी
एक बंदूक मँगा दे मम्मी फौजी मुझे बना दे मम्मी सरहद पर लड़ने जाऊँगा दुश्मन को मार भगाऊँगा गर्मी,जाड़ा या वर्षा हो सीना ताने खड़ा... Read more
चाय बनाई तो बनाई
मैने चाय बनाई तो बनाई। नही बनाई तो नही बनाई। तुम्हारे पैसे तुम रखो जी मुझे नही करनी कमाई। मै तो अपने हिसाब से बनाता... Read more
बेटी मजदूर की
सुबह ब्रह्ममुहूर्त में पानी लाती है चाय कलेवा बना साफ सफाई चौका बर्तन झाड़ू पौछा फिर क्या करती होगी मुझे पता नही, पर जब शाम... Read more