.
Skip to content

आग

निर्मल सिंह 'नीर'

निर्मल सिंह 'नीर'

कविता

July 22, 2017

पेट में लगे तो
“भूख”
दिल में लगे तो
“इश्क़”
दिमाग में लगे तो
“विनाश”
देह में लगे तो
“राख”
घर में लगे तो
“बंटवारा”
पड़ोसी में लगे तो
“ईर्ष्या”
खेतों में लगे तो
“बंजर”
फसलों में लगे तो
“भूखमरी”
मौसम में लगे तो
“जेठ”
पानी में लगे तो
“सूखा”
बाज़ारों में लगे तो
” मंहगाई”
गरीबी में लगे तो
“आफत”
अमीरी में लगे तो
“कंगाली”
सरहद पर लगे तो
” युद्ध”
पूजा में लगे तो
” विघ्न”
सपनों में लगे तो
“खलल”
सुहाग में लगे तो
“विधवा”
बोली में लगे तो
“बैर ”
बुढ़ापे में लगे तो
“आशुफ्‍ता”
जवानी में लगे तो
“आशिक”
……………….
शब्दार्थ : आशुफ्‍ता – बौखलाया हुआ
……………….
निर्मल सिंह ‘नीर’
दिनांक – 20जुलाई, 2017
समय – 03:45pm

Author
निर्मल सिंह 'नीर'
जन्म - गाँव त्योरासी, परसपुर जिला - गोंडा, उत्तर प्रदेश, शिक्षा - हाईस्कूल और इंटरमीडिएट - जवाहर नवोदय विद्यालय, मनका पुर, गोंडा, कार्यरत - रियाद सिटी, सऊदी अरब
Recommended Posts
चाँद तुमको समझने लगे हैं।
वो तूफानों से यूूं दूर रहने लगे हैं। संभल के बहुत वो चलने लगे हैं। मिला जब से फरेब अपनो से है हर कदम पे... Read more
कविता : आजकल हम बेवजह मुस्कुराने लगे हैं
जिनको कभी थे हम नज़रंदाज़ करते, धड़कन बन दिल में वो समाने लगे हैं ! आजकल बेवजह हम मुस्कुराने लगे हैं !! बदलने लगा है... Read more
होश हम अपने खोने लगे थे, सोच कर ये रोने लगे थे! थामकर उंगलिया चलना सिखाया जिसने मुझे, जब वो दुनिया से रुक्सत होने लगे... Read more
गीतिका - * * * * * साथ तेरा मिला हम सँभलने लगे | ये समय को न भाया बदलने लगे | क्या अजब रीत... Read more