Skip to content

आखिर हम किस ओर जा रहे हैं?

पं.संजीव शुक्ल सचिन

पं.संजीव शुक्ल सचिन

लेख

July 20, 2017

हम किस ओर जा रहे हैं? अपने वजूद को खोने तो नहीं लगे हैं? सभ्यता तार- तार हो रही है, संस्कृति पतन के पथ पे अग्रसर हो रही है, बड़े-छोटे का लिहाज अंतिम सांसे ले रहा है, प्रेम, ममत्व, आदर, सम्मान, सेवा-सत्कार आज भीष्म पितामह की तरह सवशैया पर लेटा लाचार दिखने लगा है।
आखिर हम जा किस ओर रहे है?
क्या ये वहीं प्रगतिशीलता का एकमेव मार्ग है जिसके तलाश में हम सदियों से खोजरत थे! संयुक्त परिवार अब पुस्तकों की विषय वस्तु मात्र हैं। बड़े -बुजूर्ग आज बृद्धाश्रम की शोभा बढाने को मजबूर हो रहे है। बच्चे माँ बाप के बजाय आया द्वारा पलने लगे हैं।
गुरु-शिष्य का रिश्ता भी आज व्यवसायिक हो गया है , मास्टर जी की वो ज्ञानदायिनि छड़ी अब नजाने कहाँ खो गई।मित्रता आज स्वार्थ साधना की अहम कुंजी बन गई है।
हम सभी पे अंग्रेजियत का भूत सवार हो चूका है, जिसके फलस्वरूप हम अपनी धरातल, अपनी पूरखों की विरासत हमारी संस्कृति हम खोते जा रहे हैं।
आज एक, दो, तीन की जगह वन, टू, थ्री ने ले लिया। क, ख, ग, विलुप्त होने के कागार पे खड़ा है। हम वाकई आधुनिक हो गये है।
कभी भक्ति रस का पान करने वाले हमारे उस समाज को आज “डी.जे.” नामक संक्रमण ने संक्रमित कर दिया है।
रिश्तों का विखण्डन आज अपने चर्मोत्कर्ष पर है। समाजिकता कहीं खो सी गई है।
स्वार्थपरकता, वैमनस्यता सर्वत्र अपना पाव जमा चूकी है।
हमारे गांव जो कभी पगड़ंडीयों, बाग-बगीचो, कुयें-तालाबों, कच्चे मकानों एवं अपने निर्मल संस्कारों व सुमधुर सभ्यता के द्वारा पहचाने जाते थे आज वहाँ भी शुन्य का वास दिखता है।
आखिर हम किस ओर चल पड़े हैं?
क्या सही मायने में संप्रभुता के चरम बिन्दु तक आ चूके हैं या इससे भी कुछ और आगे जाना बाकी है?
क्या यहाँ से हम उसी पिछड़ेपन की ओर लौट सकते हैं जहाँ संयुक्त परिवार था, आपसी भाईचारा व समाजिक सत्कार था, जहाँ दादी की कहानियां, माँ की लोरी, दादा का दुलार भरा फटकार था।
क्या ऐसा हो सकता है या हम बहुत आगे निकल चुके है जहाँ से वापसी का कोई मार्ग ही शेष न रहा।
अब तो एक ही मार्ग दृश्य हो रहा है!
हे प्रभु अब करो तुम प्रलय
एक सृष्टि नई रचाने को
आज जो अपने दूर हो रहे
फिर से उन्हें मिलाने को।
पं. संजीव शुक्ल “सचिन”
दिल्ली
9560335952
९५६०३३५९५२

Share this:
Author
पं.संजीव शुक्ल सचिन
मैं पश्चिमी चम्पारण से हूँ, ग्राम+पो.-मुसहरवा (बिहार) वर्तमान समय में दिल्ली में एक प्राईवेट सेक्टर में कार्यरत हूँ। लेखन कला मेरा जूनून है।

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

साल का अंतिम बम्पर ऑफर- 31 दिसम्बर , 2017 से पहले अपनी पुस्तक का आर्डर बुक करें और पायें पूरे 8,000 रूपए का डिस्काउंट सिल्वर प्लान पर

जल्दी करें, यह ऑफर इस अवधि में प्राप्त हुए पहले 10 ऑर्डर्स के लिए ही है| आप अभी आर्डर बुक करके अपनी पांडुलिपि बाद में भी भेज सकते हैं|

हमारी आधुनिक तकनीक की मदद से आप अपने मोबाइल से ही आसानी से अपनी पांडुलिपि हमें भेज सकते हैं| कोई लैपटॉप या कंप्यूटर खोलने की ज़रूरत ही नहीं|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you