.
Skip to content

आखिर कौन हूँ मैं ???

रीतेश माधव

रीतेश माधव

कविता

June 4, 2017

आखिर कौन हूँ मैं ???
कितने नकाब ओढ़ रखे है मैंने
हर पल बदलता रहता हूँ—
मै हर क्षण बदलने वाला व्यक्तित्व हूँ
मेरा रूप हर क्षण बदलता रहता है —
कभी हिम्मती निडर हूँ तो ,
कभी सहमा हुआ,
डरी हुई, आवाज हूँ —
कभी महत्वहीन हूँ ,
कभी समर्पित हूँ —
तो,कभी इशारों पर चलने वाला कठपुतली !
मेरे विविध रूप है —
कभी उग्र और आवेगयुक्त विचलित बहता हवा सा हूँ—तो —
कभी ठंडी निर्मल धारा–
कभी मन की उथल -पुथल से विचलित हूँ ,तो
कभी जिम्मेवारी ढ़ोने वाला काया !
कभी उत्साह-उमंगयुक्त हूँ तो ,
कभी शांत चुपचाप सा,

कभी बन जाता हूँ अच्छा, कभी बुरा सा

आखिर कौन हूँ मैं ???

Author
Recommended Posts
ढलता रहता हूँ
ढलता रहता हूँ *** हर रोज़, दिन सा, ढलता रहता हूँ ! बनके दिया सा, जलता रहता हूँ !! कोई चिंगारी कहे, कोई चिराग !... Read more
जलता हूँ फिर भी नहीं करता
जल -जल उठता हूँ बार - बार जब से सँभाला होश मैने दावानल की तरह जल रहा हूँ कभी प्रेम की विरहाग्नि में स्पर्धा की... Read more
ज़माने तेरी मिह्रबानी नहीं हूँ
शजर हूँ, तिही इत्रदानी नहीं हूँ चमन का हूँ गुल मर्तबानी नहीं हूँ ख़रा हूँ कभी भी मुझे आज़मा लो उतर जाने वाला मैं पानी... Read more
खामोश अकसर जब भी मैं रहता हूँ
खामोश अकसर जब भी मैं रहता हूँ। तुम समझते हो मैं चुप ही रहता हूँ। हर बार शब्दों का शोर नहीं मुमकिन इसलिए कभी यूं... Read more