.
Skip to content

आखिर!कब?

श्री एस•एन•बी• साहब

श्री एस•एन•बी• साहब

लघु कथा

March 26, 2017

@आखिर! कब?@

“तुम इस हद तक जा सकते हो;मैंने कभी सोंचा भी नहीं था।तुम्हारे सीने में दिल नहीं पत्थर है;जो सिर्फ दूसरों को चोंट पहुँचाने का काम करता है।”-दाँत पीसते हुए रूपा ने बसंत को खरी-खरी सुनाई । “जब जिंदगी अपने लय में सरपट दौड़ती जाती है; उसे अपने सिवाय जब कुछ नजर नहीं आती तो समझ जाओ वह अपने अंदर कितना दर्द समेटे जी रहा होगा। आखिर! तुम मुझसे कहना क्या चाहती हो?” जवाब के इंतजार में बसंत रूपा को एकटक देखे जा रहा है । रूपा -“तुम शादी कब कर रहे हो?” बसंत -“हमारे चाह लेने मात्र से सबकुछ नहीं बदल जाता ।मेरे हालात मुझे इजाजत नही देते।मुझे कुछ वक्त और चाहिए।” बसंत ने अपनी मजबूरी जाहिर किया ।
” जब दिल किसी को चाहने लगता है तब चाह कर भी उसे कुछ और नहीं भाता” रूपा की कुछ ऐसा ही हाल था। वह करे तो क्या करे? उसे कुछ समझ नहीं आ रहा था।बस दिल था जो अपने आप को तसल्ली दे रहा था कि-“कभी न कभी; कहीं न कहीं से;इक उम्मीद की रौशनी जरूर मुझ तक पहुँचेगी ।मेरा दामन भी; कभी न कभी ;खुशियों से भर जाएगी ।पर सवाल यह था? आखिर! कब?यह इंतजार कब तक?

श्री एस•एन•बी•साहब

Author
Recommended Posts
आखिर तुम कब आओगे
????? मेरे नयन के चांद सितारे , इस घर-आँगन के उजियारे। बुढापे के एक मात्र सहारे , घर लौट के आजा, ओ मेरे प्यारे। कितने... Read more
****.भेद भाव.****
कही आरक्षण कही भेद भाव कब तक यूं ही हमें बाटोगे, इस गंधयुक्त हथियारों से आखिर कब तक हमें काटोगे? हे भ्रष्टाचार के अनुयायी बतला... Read more
मरे दशानन को कबतक मारोगे?
मैं पूछता हूँ क्या प्रति वर्ष कागजी पुतले पर कमान साधोगे, कब तक मरे दशानन को युहीं तुम बार - बार मारोगे। क्रोध, कपट, ईर्ष्या,... Read more
हद होती है
आखिर कब तक सहेगा कोई , सहने की भी हद होती है . ज़ुल्म करे वो , सहन करें हम , दबने की भी हद... Read more