May 5, 2017 · कविता
Reading time: 1 minute

“आक्रोश”

इस तरह से ग़मो मे,
डूबा हूँ मैं!
जैसे दुनिया के हर शख्स से,
रुठा हूँ मैं!
आँसुओ से लिखने को,
मैं सरहदों का दर्द,
फिर से कलम लेकर,
एक बार उठा हूँ मैं!
वो जो प्यार की बोली तक,
समझे नही!
बार-बार सम्भाले से,
सम्भलते नही!
जी तो चाहता है उन्हें,
चिरकर रख दूँ!
मगर हमारे तेवर तो,
सरहदों पर चलते नही!
एक बार ऐलान-ए-जंग,
किया तो जाए,
दुश्मनी ही सही,
खुल के किया तो जाए!
हमारे जवान तैयार है,
धूल चटाने को उन्हें!
एक बार हमारे जवानो को,
इजाज़त दिया तो जाए!
उनके बुझ-दिली का सिलसिला,
भी मिटा देंगे!
हम उनका नामो-निशा,
तक मिटा देंगे!
गुरुर है उन्हें अगर,
अंधेरो मे वार करने का!
हम दिन दहाड़े उनका गुरुर,
मिटा देंगे!

(((युवा कवि ज़ैद बलियावी)))

1 Like · 374 Views
Copy link to share
ज़ैद बलियावी
34 Posts · 7.1k Views
Follow 1 Follower
तुम्हारी यादो की एक डायरी लिखी है मैंने...! जिसके हर पन्ने पर शायरी लिखी है... View full profile
You may also like: