कविता · Reading time: 1 minute

आओ स्वतंत्रता दिवस मनाएं

आओ स्वतंत्रता दिवस मनाएंआओ स्वतंत्रता दिवस मनाएं
लालकिला पर तिरंगा फहराएं
मातृ भूमि पर हो गए शहीद जो
वीर सपूतों की गाथा को गायें
झाँसी की रानी वो मस्तानी
मंगल पाण्डे की अमर कहानी
नाना तांत्या के बलि वेदी पर
आज श्रद्धा के सुमन चढ़ाएं
आओ स्वतन्त्रता———-
ओढ़ बसन्ती टोला निकले जो
हंसकर फंदे में झूल गए जो
भगत,सुखदेव राजगुरु इंकलाबी
शंख वन्देमातरम का बजाएं
आओ स्वतंत्रता——-
हुए शहीद विपिन दा, बोहरे जी
रो न सकी वो दुर्गा भाभी थी
अशफ़ाक़ की राष्ट्र भक्ति का
फिर से यश गान हम गायें
आओ स्वतंत्रता———–
तुम खून दो मैं आज़ादी दूंगा
आज़ाद हिन्द ही फ़ौज रखूँगा
नहीं देश को झुकने अब दूंगा
सुभाष चन्द्र का स्वप्न सजाएं
आओ स्वंत्रता———
विस्मिल,लहिरी,और रौशन सिंह
चौरचोरी फिर काकोरी के सिंह
जोगेश चटर्जी अनजान दीवाने
लाला लाजपतराय को गायें
आओ स्वतंत्रता——–
तिलक,गोखले गांधी आंदोलन
जाग उठा भारत का जन जन
गूंज उठा घर घर जन गण मन
नवयुग का नव बिगुल बजाएं
आओ स्वतंत्रता———-
बल्लभ पटेल,अब्दुल हमीद से
रखी अखण्डता अपने दम से
बने भयंकर शिव शंकर से
आओ उन्हें सम्मान दिलाएं
आओ स्वतंत्रतदिवस——-
अंत आवाहन ये युवा पीड़ी से
राणाप्रताप बन हुंकार लो फिर से
मुक्त करो राष्ट्र को राष्ट्रद्रोह से
अपने कश्मीर को सजाएं फिर से
आओ स्वतंत्रता———-
वन्देमातरम

9 Comments · 136 Views
Like
45 Posts · 4.6k Views
You may also like:
Loading...