.
Skip to content

“आओ अधरामृत पान करें ।”

पूनम झा

पूनम झा

गीत

February 24, 2017

मैं छल प्रपंच न जानूँ प्रिये,
उर प्रीत को ही मानूँ प्रिये,
प्रणय अधर पर है लहराई
मिलकर इसका सम्मान करें,
आओ अधरामृत पान करें ।
.
चक्षु ह्रदय का तुम खोलो,
नैनों से अब कुछ बोलो,
दृग ने है प्रेम सुधा बरसाई,
प्रणय निवेदन का मान करें,
आओ अधरामृत पान करें।
.
इस मन पर तेरा ही राज है,
इन सांसों में तेरा ही साज है,
ॠतु मधुमास चहुंओर है छाई,
राग प्रेम का हम भी गान करें,
आओ अधरामृत पान करें ।
@पूनम झा। कोटा, राजस्थान।
#########################

Author
पूनम झा
मैं पूनम झा कोटा,राजस्थान (जन्मस्थान: मधुबनी,बिहार) से । सामने दिखती हुई सच्चाई के प्रति मेरे मन में जो भाव आते हैं उसे शब्दों में पिरोती हूँ और यही शब्दों की माला रचना के कई रूपों में उभर कर आती है।... Read more
Recommended Posts
तुम्हारे संग प्रिये
प्रेम के इस पावन नगरी में जबसे बिखरा तुम्हारा रंग प्रिये लगने लगा मनभावन सारा जग और मुझमें उमंग प्रिये हर पल रहती यही लालसा... Read more
प्रिये!!
प्रिये !! निःसंदेह हो चक्षुओं से ओझल, तेरी ही छवि प्रतिपल निहारता, स्मरण तेरा प्रिये !! आनंद बोध देता, हृदय स्पर्शी होता दूरी भी तेरी... Read more
प्रयोग करो:फेंक दो
कभी कभी यूँ लगता है कि कुछ लोग आप के साथ आप को निजी स्वार्थ के लिये इस्तेमाल करते है और फिर भूल जाते हैं... Read more
बस यूँ ही
तुम रात चाँद की चाँदनी हो,मैं सुबह से पहले भोर प्रिये! मीठी धुन हो संगीत की तुम,मैं धड़कते दिल का शोर प्रिये! तू बरसते सावन... Read more