23.7k Members 49.8k Posts

"आओ अधरामृत पान करें ।"

मैं छल प्रपंच न जानूँ प्रिये,
उर प्रीत को ही मानूँ प्रिये,
प्रणय अधर पर है लहराई
मिलकर इसका सम्मान करें,
आओ अधरामृत पान करें ।
.
चक्षु ह्रदय का तुम खोलो,
नैनों से अब कुछ बोलो,
दृग ने है प्रेम सुधा बरसाई,
प्रणय निवेदन का मान करें,
आओ अधरामृत पान करें।
.
इस मन पर तेरा ही राज है,
इन सांसों में तेरा ही साज है,
ॠतु मधुमास चहुंओर है छाई,
राग प्रेम का हम भी गान करें,
आओ अधरामृत पान करें ।
@पूनम झा। कोटा, राजस्थान।
#########################

Like 5 Comment 0
Views 132

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
Copy link to share
पूनम झा
पूनम झा
कोटा, राजस्थान
86 Posts · 5.7k Views