.
Skip to content

आई है ऋतु प्रेम की.(नव बसंत)

RAMESH SHARMA

RAMESH SHARMA

दोहे

February 1, 2017

सरस्वती से हो गया ,तब से रिश्ता खास !
बुरे वक्त में जब घिरा,लक्ष्मी रही न पास !!
……………………….
जिसको देखो कर रहा, हरियाली काअंत !
आँखें अपनी मूँद कर, रोये आज बसंत !!
……………………..
पुरवाई सँग झूमती,.. शाखें कर शृंगार !
लेती है अँगडाइयाँ ,ज्यों अलबेली नार !!
………………………..
आई है ऋतु प्रेम की,.. आया है ऋतुराज !
बन बैठी है नायिका ,सजधज कुदरत आज !!
……………………….
सर्दी-गर्मी मिल गए , बदल गया परिवेश !
शीतल मंद सुगंध से, महके सभी “रमेश” !!
………………………..
हुआ नहाना ओस में ,…तेरा जब जब रात !
कोहरे में लिपटी मिली,तब तब सर्द प्रभात !!
……………………….
कन्याओं का भ्रूण में,…. कर देते हैं अंत !
उस घर में आता नही, जल्दी कभी बसंत !!
रमेश शर्मा

Author
RAMESH SHARMA
अपने जीवन काल में, करो काम ये नेक ! जन्मदिवस पर स्वयं के,वृक्ष लगाओ एक !! रमेश शर्मा
Recommended Posts
*सुहानी बसंत ऋतु आई रे*
*अनंत, असीम, आलौकिक आनंद लिए अनोखी छटा छाई है | आई-रे-आई बसंती बसंत ऋतु आई है| प्रसून देख तितली मुस्काती हँस-हँस गाती इठलाती | पुरवा... Read more
****स्वागत है बसंत का आज****
****समस्त भारतवासियों को बसंत पंचमी की हार्दिक बधाई****** अरुण किरण अंबर में छूटी, नभ में स्वर्णिम लालिमा छाई है | रंग बसंती सजा धरा पर,... Read more
षड ऋतु
षड ऋतु (हाइकु) 1/ बसंत ऋतु कोयल की पुकार उमड़े प्यार। 2/ ग्रीष्म की ऋतु सूर्य तेज तर्रार गर्मी की मार। 3/ वर्षा की ऋतु... Read more
ऋतु बसंत की जब है आती
ऋतु बसंत की जब है आती कली कली दिल की खिल जाती फूल खिले हैं रंग बिरंगे, तोड़ रहीं हैं कलियाँ बंधन यहाँ वहां सारी... Read more