.
Skip to content

आंसुओं की सूई लेकर

कृष्ण मलिक अम्बाला

कृष्ण मलिक अम्बाला

शेर

August 20, 2016

अर्ज किया है-
कई दाग लिए जीता हूँ ।
घूँट दर्द के पीता हूँ ।
दुनिया छल्ली कर फाड़ती है आत्मा के कपड़ों को जब भी
आंसुओं की सूई लेकर शोंक से सीता हूँ ।

Author
कृष्ण मलिक अम्बाला
कृष्ण मलिक अम्बाला हरियाणा एवं कवि एवं शायर एवं भावी लेखक आनंदित एवं जागृत करने में प्रयासरत | 14 वर्ष की उम्र से ही लेखन का कार्य शुरू कर दिया | बचपन में हिंदी की अध्यापिका के ये कहने पर... Read more
Recommended Posts
मैं बारिश की बूँद हूँ , मेघों से बिछड़ कर, बिखर जाती हूँ , गगन से दूर धरती पर छा जाती हूँ किसी की तपन... Read more
हिम्मत जुटा कर दो टूक शब्द लिख रहा हूँ
हिम्मत जुटा कर दो टूक शब्द लिख रहा हूँ बेहरूपियों के समाज में धीरे धीरे जीना सीख रहा हूँ मेरी नियत में इंसानियत है यही... Read more
हिन्दुस्तान लेकर निकला हूँ
छोटे शहर से मैं बड़े अरमान ले कर निकला हूँ मैं खुद अपनी मौत का सामान लेकर निकला हूँ मेरे वतन की वफादारी पर ऐ... Read more
में उसे अपना बनाने में लगा रेहता हूँ..
गुजरे लम्हों को बुलाने में लगा रेहता हूँ, में उसे अपना बनाने में लगा रेहता हूँ ख्वाहिशें है अनगिनत,अधूरी न रेह जाय कोई, करके ये... Read more