आंसुओं की सूई लेकर

अर्ज किया है-
कई दाग लिए जीता हूँ ।
घूँट दर्द के पीता हूँ ।
दुनिया छल्ली कर फाड़ती है आत्मा के कपड़ों को जब भी
आंसुओं की सूई लेकर शोंक से सीता हूँ ।

59 Views
कृष्ण मलिक अम्बाला हरियाणा एवं कवि एवं शायर एवं भावी लेखक आनंदित एवं जागृत करने...
You may also like: