.
Skip to content

आंशू

Rishav Tomar (Radhe)

Rishav Tomar (Radhe)

हाइकु

June 29, 2017

नयन नीर
कह रहा है साथी
मन की पीर

दिल का दर्द
झलकता है बन
आँख से नीर

बह जाते है
सपने बनकर
होकर नीर

गिर जाते है
अपने लालच में
खोकर नीर

मन बेचते
है तन की खातिर
सहके पीर

रचनाकार ऋषभ तोमर

Author
Rishav Tomar (Radhe)
ऋषभ तोमर अम्बाह मुरैना मध्यप्रदेश से है ।गणित विषय के विद्यार्थी है।कविता गीत गजल आदि विधाओं में साहित्य सृजन करते है।और गणित विषय से स्नातक कर रहे है।हिंदी में प्यार ,मिलन ,दर्द संग्रह लिख चुके है
Recommended Posts
स्नेह और नीर …..:मुक्तक
स्नेह से नीर मित्र भारी है किन्तु इनकी सदा से यारी है स्नेहवश नीर उपजे आँखों में जिसमें डूबी जमीन सारी है आज समवेत स्वर... Read more
बूढी आँखों की समझ, आती है तब पीर
बूढी आँखों की समझ, आती है तब पीर बहता अपनी आँख से , जब वैसा ही नीर जब वैसा ही नीर, रहे जब पास जवानी... Read more
पहले प्‍यार की खातिर
पहले प्‍यार की खातिर हॅसी उल्‍लास की खातिर , में तुझको देखता ऐसे मधुर मधुमास की खातिर, बहारो फुल की खातिर हद्रय की पीर की... Read more
मोहन समझो मन की पीर
Rita Singh गीत Jun 26, 2017
मोहन समझो मन की पीर तुम बिन कैसे धरु मैं धीर । दिन रैना दर्श की तृष्णा किस विध तृप्ति हो बिन नीर । मोहन... Read more