.
Skip to content

आंखे

विजय कुमार नामदेव

विजय कुमार नामदेव

गज़ल/गीतिका

April 17, 2017

दो आंखों की जेल में उसकी हम गिरफ्तार रहे हैं।
एक जमाने से इस दिल में वो सरकार रहे हैं।।

पूछ रहे हो मुझसे तुम क्या तुमने प्यार किया है।
एक अनार के पीछे बरसों हम बीमार रहे हैं।।

शक्ल नहीं देखी बरसों से कभी किसी आईने में।
एक जमाना था जब हम भी पानीदार रहे हैं।।

हम इकलौते चल ना सकेंगे सारा जहां बदलने को।।
ऊपर से ये बीवी बच्चे और घर बार रहे हैं।।

होश संभाला जबसे बेशरम लगे हैं दुनियादारी में।
जीवन के एक-एक पल अपने तो मंझधार रहे हैं।।

9424750038

Author
विजय कुमार नामदेव
सम्प्रति-अध्यापक शासकीय हाई स्कूल खैरुआ प्रकाशित कृतियां- गधा परेशान है, तृप्ति के तिनके, ख्वाब शशि के, मेरी तुम संपर्क- प्रतिभा कॉलोनी गाडरवारा मप्र चलित वार्ता- 09424750038
Recommended Posts
चलो चले हम, गाँव चले हम! आओ चले हम, गाँव चले हम! ये झुटी नगरी, छोड़ चले हम! ये झुटे सपने, तोड़ चले हम! चलो... Read more
हम = तुम
हम अल्लाह तुम राम हम गीता तुम क़ुरान हम मस्ज़िद तुम मंदिर हम काशी तुम मदीना हम जले तुम बुझे तुम जले हम बुझे हम... Read more
*** दीवाने हो गये हैं हम  ****
दीवाने हो गये हैं हम दीवाने हो गये हैं हम नहीं हैं हम किसी से कम जहां में दौलते हैं कम नहीं हैं अब किसी... Read more
दो शरीर एक श्वांस हैं हम, एक दूजे के खास हैं हम। दूर भले हम कितने रह लें, दिल के मगर अति पास हैं हम।... Read more