आंखें

रोती है आंखें
हर गम सहती है आंखें
ना कुछ बतलाकर भी
सब कुछ बतलाती है आंखें
रोती है आंखें
हर गम सहती है आंखे
कभी खुशी के तो
कभी गम के आंसू बहाती है आंखें
अपनी इस गहराई में दुनिया को समेटती है आंखें
दुनिया को समेटती है आंखें
रोती है आंखें
हर गम सहती है आंखे

2 Likes · 1 Comment · 308 Views
Manisha Bhardwaj
Manisha Bhardwaj
Panipat
12 Posts · 1.4k Views
Student IB (PG) college panipat
You may also like: