.
Skip to content

आंखें

संजय सिंह

संजय सिंह "सलिल"

हाइकु

March 19, 2017

आंखों से गिरा l
वह कहां फिर उठा l
ऊंची हवेली ll

आंखों में पानी l
खेत सूख बंजर l
मेरी कहानी ll

आंखों में बसा l
टूटा एक सपना l
मन का नशा ll

आंखों पे पर्दा l
अमीरी का चश्मा l
यही जवानी ll

संजय सिंह ‘सलिल’
प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश l

Author
संजय सिंह
मैं ,स्थान प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश मे, सिविल इंजीनियर हूं, लिखना मेरा शौक है l गजल,दोहा,सोरठा, कुंडलिया, कविता, मुक्तक इत्यादि विधा मे रचनाएं लिख रहा हूं l सितंबर 2016 से सोशल मीडिया पर हूं I मंच पर काव्य पाठ तथा मंच... Read more
Recommended Posts
II  जरूरी है  II
आंखों की भाषा से आगे, बढ़ना जरूरी है l शब्द ना दे साथ फिर भी, कहना जरूरी है ll आंखों का क्या खुशी में भी,... Read more
II...हदों को पार करना भी....II
जरुरी है मोहब्बत में हदों को पार करना भीl अकीदत में झुका हो सिर जरूरत वार करना भी ll कई टूटे कई बिखरे कई आबाद... Read more
ग़ज़ल होती है
खो के सब कुछ भी मिले जो वो ग़ज़ल होती है l नींद आंखों से उड़ा दो तो गजल होती है ll लोग शब्दों से... Read more
कहां किसी को दर्द
हैं सभी यहां पर मर्द, कहां किसी को दर्द l आंखों से दिखता नहीं ,पड़ी हुई है गर्द ll पड़ी हुई है गर्द ,नहीं कुछ... Read more