आंखें मुंदे

आंखें मुंदे
नदी किनारे
नाव चले
पतवार हिले
हवाओं की सनसनाहट
पेड़ो की हलचल
खामोशी से
हौले-हौले
गीत सुनाये
प्रीत बताये
डालों की पत्तियां
पलकों को
छुके जगाये
शरीर जगे
सब बेजान मिले
आंखें मुंदे
नदी किनारे ।
~रश्मि

Like 2 Comment 2
Views 81

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share