.
Skip to content

“आँसू”

Dharmender Arora Musafir

Dharmender Arora Musafir

मुक्तक

October 12, 2017

“आँसू”
*******
(1)
दर्द से रिश्ता बनाना आ गया !
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
आँख में आँसू छिपाना आ गया !
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
नफरतों को आज सारी भूल कर ,
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
उल्फ़तों के गीत गाना आ गया !
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
(2)
ग़म भरे आँसू छिपाते हम रहे !
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
ख़्वाब इस दिल में सजाते हम रहे !
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
ग़र्दिशों ने लाख चाहा रोकना ,
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
दिलनशीं नग़मे सुनाते हम रहे !
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
(3)
आँख से आँसू गिराता भी नहीँ !
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
ज़ख्म दिल के पर दिखाता भी नहीँ !
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
गर्दिशों की मार जब पड़ने लगे ,
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
आदमी को कुछ लुभाता भी नहीं !
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
धर्मेन्द्र अरोड़ा “मुसाफ़िर”
(9034376051)

Author
Dharmender Arora Musafir
*काव्य-माँ शारदेय का वरदान *
Recommended Posts
आँसू
आँसू (गीत) यूँ ना बहाओ आँसू दरिया में आ लग जायेगी तुमने बहाया आँसू नदियाँ भी शरमा जायेगी मोती सा कीमती हर आँसू व्यर्थ ना... Read more
गीत
आ दो चार कर लें हम,प्यार की बातें। कुछ तेरी कुछ मेरी,कुछ संसार की बातें।। जब जुदा होंगे,न जाने हम कहाँ होंगे। अपने सुख-दु:ख फिर,कैसे... Read more
**   मुझे जुकाम था  **
* मेरी आँखों से लगातार आँसू बहे जा रहे थे मै अपने आँसू पोंछता पोंछता थक गया था मै जार जार रो रहा था न... Read more
*आँसू*
जब भी आँख से बहते आँसू । दिल की व्यथा कहते आँसू ।। कभी दर्द में बहते आँसू । तो कभी ख़ुशी में बहते आँसू... Read more