"आँसू"

“आँसू”
*******
(1)
दर्द से रिश्ता बनाना आ गया !
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
आँख में आँसू छिपाना आ गया !
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
नफरतों को आज सारी भूल कर ,
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
उल्फ़तों के गीत गाना आ गया !
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
(2)
ग़म भरे आँसू छिपाते हम रहे !
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
ख़्वाब इस दिल में सजाते हम रहे !
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
ग़र्दिशों ने लाख चाहा रोकना ,
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
दिलनशीं नग़मे सुनाते हम रहे !
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
(3)
आँख से आँसू गिराता भी नहीँ !
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
ज़ख्म दिल के पर दिखाता भी नहीँ !
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
गर्दिशों की मार जब पड़ने लगे ,
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
आदमी को कुछ लुभाता भी नहीं !
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
धर्मेन्द्र अरोड़ा “मुसाफ़िर”
(9034376051)

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 21

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share