Jul 27, 2016 · कविता

आँधियाँ

जब चराग़ों ने डरना छोड़ दिया.,
आँधियों का ग़ुरूर तोड़ दिया.!
जिसको तिनका समझ रहे थे लोग.,
रुख़ हवाओं का उसने मोड़ दिया..!!

((( ख़ुमार देहल्वी )))

1 Like · 1 Comment · 8 Views
A Urdu Poet
You may also like: