Jun 28, 2016 · कविता
Reading time: 1 minute

आँखो से बात करे

कभी आता है ख्याल तुम्हारा,
दिल करता है तुमसे बात करे,
इतनी तो दुश्मनी नहीं है
चलो एक मुलाकात करे।

मै तुमसे तुम मुझसे हो,
खफा किस बात पर मालूम नहीं ,
इश्क पर किसी का जोर चलता नहीं,
जब इश्क का फैसला दो दिल साथ करे।

कहाँ से इब्तिदा करिये अब,
कि दीदार हुआ है तुम्हारा हमको,
दिल फिर भी कह रहा है जानम,
लबो को बंद रहने दो आँखो से बात करे।
#बेखुदअनुराग

1 Like · 67 Views
Copy link to share
Mahesh Kumar Bose
10 Posts · 405 Views
साहित्य प्रेमी ख्याल लिखता हू। #Bekhudanurag for more find me on twitter... http://twitter.com/bekhudanurag My blog... View full profile
You may also like: