.
Skip to content

आँखों में पानी क्यों नहीं

अजय कुमार मिश्र

अजय कुमार मिश्र

गज़ल/गीतिका

February 17, 2017

ढूँढ रहा हूँ मैं तो जवाब इस सवाल का
वतन पर मिटती है अब जवानी क्यों नहीं/

इस धरा पर दूर तक सागर का विस्तार है
पर रही लोगों की आँखों में पानी क्यों नहीं/

अब तो दिखता घर में सब कुछ नया ही सा
रखे अब कोई बुज़ुर्गों की निशानी क्यों नहीं/

धन से धन को जोड़ने में सब तो हैं लगे हुए
अब कोई होता यहाँ कर्ण सा दानी क्यों नहीं/

सब तो हैं बस बाहरी सौंदर्य में ही उलझे हुए
अब तो ये इश्क़ भी होता है रुहानी क्यों नहीं/

फूल को छोड़कर अपने लिए बस काँटे चुने
कोई भी करता अब ऐसी बेईमानी क्यों नहीं/

गर धरा पर उगाएँ सभी प्यार का पौधा अजय
मस्त हो जाएगी सभी की ज़िंदगानी क्यों नहीं/

Author
अजय कुमार मिश्र
रचना क्षेत्र में मेरा पदार्पण अपनी सृजनात्मक क्षमताओं को निखारने के उद्देश्य से हुआ। लेकिन एक लेखक का जुड़ाव जब तक पाठकों से नहीं होगा , तब तक रचना अर्थवान नहीं हो सकती।यहीं से मेरा रचना क्रम स्वयं से संवाद... Read more
Recommended Posts
मुक्तक
जरूरत एक छोटी सी जीने को सब क्यों होती है ? ? ? ? ? ? ? हरपल उनके दीदार की ख्वाहिश अब क्यों होती... Read more
ओढ़ तिरंगे को
ओढ़ तिरंगे को क्यों पापा आये है? माँ ! मेरा मन, क्यों समझ न पाये है? पापा मुन्ना मुन्ना ,कहते आते थे, टॉफियाँ खिलौने भीे,... Read more
क्यों इश्क हुआ हमको
जो भूल चुके हमको हम याद करें उनको क्या सोच रहा ये दिल क्यों तड़पाये खुदको ????????? क्यों इश्क में ये जलता क्यों सूरज सा... Read more
.मुक्त छंद रचना:  बेटी
माँ - बाप की आँखों का नूर पिता का स्वाभिमान समाज का सम्मान कल-कारखानों में खेतों-खलिहानों में दफ्तरों-विभागों में कहाँ नहीं हैं बेटियाँ हमारी फिर... Read more