.
Skip to content

आँखों में आंसू और दिल में वो दर्द न थे

Ankur Thakor

Ankur Thakor

गज़ल/गीतिका

October 7, 2016

आँखों में आंसू और दिल में वो दर्द न थे
टूट गये रिश्ते फिर भी तुम आजिज़ न थे

वक़्त ने कसोटी पे तराशा हे एक सा हमे
पर मेरे इब्तिला से तुम तो ‘वाकिफ’ न थे

तुम तो बड़ी ‘खामोसी’ में निकल गये पर
मेरे ‘गिरियां’ किसी ने देखे और सुने न थे

बड़ी नुमाइस हो रही थी हमारे ‘प्यार’ की
सब तमाशाई ही खड़े थे गम़गुस्सार न थे

आवाजे गूंजती रही दिवालो के पीछे की
हमतो बे इख्त़ियारी थे शर्मसार तुम न थे
@अंकुर…..

Author
Ankur Thakor
नाम :- अंकुरसिंह पी ठाकोर पता :- गोधरा, गुजरातसे हु लेखन :-कविता गीत ग़ज़ल और मुक्तक शिक्षण :- बी ए विथ इकोनॉमिक्स (अर्थ शास्त्र ) व्यवसाय :- टू व्हीलर्स ऑटो स्पेर्स मोबाइल :- 98795530109 मेल :- apt23372@gmail.com
Recommended Posts
ए ज़िंदगी बड़ी अजीब हो तुम
ए ज़िंदगी बड़ी अजीब हो तुम अमीर तो कहीं ग़रीब हो तुम कोई नाम दो अब रिश्ते को न यार मिरे ना रक़ीब हो तुम... Read more
दिन में भी तुम रात में भी तुम हो मेरे अंदर छिपे जज़्बात में भी तुम हो
दिन में भी तुम रात में भी तुम हो मेरे अंदर छिपे जज़्बात में भी तुम हो बहती हुई फ़िज़ाओं के एहसास में भी तुम... Read more
आँखों में
ख़्वाब तेरा करता है वो जादू आँखों में भर उठती है ख्वाब की हर ख़ुशबू आँखों में क़त्ल बताओ कैसे फिर मेरा न होता रक्खे... Read more
आ गये पास मेरे
आ गये जब पास मेरे वो हिचकिचाये भी नहीं दर्द दास्तां को सुना तब वो लजाए भी नहीं प्यार में पागल हुए है हम न... Read more