Sep 3, 2016 · कविता
Reading time: 1 minute

आँखे

आँखे

कैसे कहूँ
आँखों की बात
देखूँ
तो लगे
झील की गहराई
स्वप्न सी सच्चाई

एक मधुशाला सी
प्रेम की पाठशाला सी
नृत्य की रंगशाला सी
आँखों मे
न मिटने वाली प्यास
शायद इन आँखों को
खास की तलाश है

18 Views
Copy link to share
डॉ मधु त्रिवेदी
515 Posts · 31.6k Views
Follow 32 Followers
डॉ मधु त्रिवेदी शान्ति निकेतन कालेज आफ बिजनेस मैनेजमेंट एण्ड कम्प्यूटर साइंस आगरा प्राचार्या, पोस्ट... View full profile
You may also like: