शेर · Reading time: 1 minute

अफ़्सोस…

🌷 #सुप्रभात 🌷
है मेरा ज़ब्त के बाहर, अब इंतिज़ार तेरा,
टूटेगी जब सांस मिरी ख़ुद-ब-ख़ुद आओगे ।।

अभी इक बात सुनने को राज़ी नहीं हो तुम,
अफ़्सोस तब हम न होंगें जब तुम सुनाओगे ।।

#हनीफ़_शिकोहाबादी ✍️

1 Like · 2 Comments · 46 Views
Like
153 Posts · 6k Views
You may also like:
Loading...