Skip to content

अहोई अष्टमी की हार्दिक बधाई

Ranjana Mathur

Ranjana Mathur

कविता

October 12, 2017

हे अहोई माता दे ऐसा भाग्य
हर सुहागन पाए अटल सौभाग्य।
हे अहोई माता दे वरदान
हर माता पाए संतान।
हर एक गोद भरी रहे
घर बगिया हरी भरी रहे।
दीर्घायु हों संतानें सब की
करें उन्नति होवें सम्पन्न ।
रहें सदा माता -पिता के सम्मुख
देख – देख वे रहें प्रसन्न।

सुखी रहें सब दूर हों बलाऐं
मांगती हूँ ईश्वर से यही दुआएं।
आई आई अहोई अष्टमी आई
हर पत्नी हर मां को बधाई।

–रंजना माथुर दिनांक 12/10/2017
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

Author
Ranjana Mathur
भारत संचार निगम लिमिटेड से रिटायर्ड ओ एस। वर्तमान में अजमेर में निवास। प्रारंभ से ही सर्व प्रिय शौक - लेखन कार्य। पूर्व में "नई दुनिया" एवं "राजस्थान पत्रिका "समाचार-पत्रों व " सरिता" में रचनाएँ प्रकाशित। जयपुर के पाक्षिक पत्र... Read more
Recommended Posts
सरस्वती वंदना | अभिषेक कुमार अम्बर
हे माता मेरी शारदे तू भव से उतार दे। बुद्धि को विस्तार दे ज्ञान का भंडार दे। हे माता मेरी शारदे। दूर सब अँधेरे हो... Read more
==* है बधाई ईद आई *==
है बधाई है बधाई ईद आई ईद आई है बधाई ईद आई दिली बधाई है मेरे भाई हिंदू मुस्लिम सिख इसाई जश्न-ईद का साथ मनाये... Read more
खंजर  देख  ना  कटार देख
खंजर देख ना कटार देख तू क़लम देख और धार देख आई नहीं ख़बर इक तेरी हर दिन आता अख़बार देख दिल के दरीचे खोल... Read more
बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ
बधाई हो बधाई, बेटी घर पर आई बधाई हो बधाई, बेटी घर पर आई बेटा था घर का सूरज, रोशनी अब आई घर आँगन चौबारे... Read more