एहसास

========={{{{एहसास}}}}===========
*****************************************

अनदेखा..अनजाना..अनछुआ.अनमोल सा ।
नया-नया था एहसास का मौसम रात कल ।।
उमंगो..अरमानों के आत्मीय एहसास से भरे ।
मुहब्बत में सराबोर ” मदमस्त “पल रात कल ।।

सरसराती ….. सनसनाती… सी वो रात ढली ।
प्यार की तेज “आंधियां “सी चली थी रात कल ।।
सांसों के शोर में छलकती रही” मय “रात भर ।
बरस कर इक बूंद प्यार की जब गिरी रात कल ।।

बहुत मचली.. बहुत तडपी..खुशी में भी चहकी ।
तूफानी बारिश में भी सुलगती रही वो रात कल ।।
अरमान …जज्बात..एहसास बहुत कुछ बदला ।।
बरसों से सम्हाला एहसास जो पिघला रातकल ।।

*******************************************

” गौतम जैन

Like Comment 2
Views 13

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share