.
Skip to content

अहसास न होते तो, सोचा है कि क्या होता

हिमकर श्याम

हिमकर श्याम

गज़ल/गीतिका

October 3, 2016

अहसास न होते तो, सोचा है कि क्या होता
ये अश्क़ नहीं होते, कुछ भी न मज़ा होता

तक़रार भला क्यूँकर, सब लोग यहाँ अपने
साजिश में जो फँस जाते, अंजाम बुरा होता

बेख़ौफ़ परिंदों की, परवाज़ जुदा होती
उड़ने का हुनर हो तो, आकाश झुका होता

अख़लाक़ जरूरी है, छोड़ो न इसे लोगो
तहज़ीब बची हो तो, कुछ भी न बुरा होता

मेहमान परिंदे सब, उड़ जाते अचानक ही
रुकता न यहाँ कोई, हर शख़्स जुदा होता

काबा में न काशी में, ढूंढे न खुदा मिलता
गर गौर से देखो तो, सजदों में छुपा होता

मगरूर नहीं हिमकर, पर उसकी अना बाक़ी
वो सर भी झुका देता, गर दिल भी मिला होता

© हिमकर श्याम

Author
हिमकर श्याम
स्वतंत्र पत्रकार, लेखक और ब्लॉगर http://himkarshyam.blogspot.in https://doosariaawaz.wordpress.com/
Recommended Posts
सोचते - सोचते
अपना कुछ नहीं सब को सुखः दिया फिर भी कुछ नाराज सोचा - फिर सोचा सोचते - सोचते बिमार पड़ गया एक दिन मौत ने... Read more
मेरे वजूद से जुदा हो गई
लो हकीकत मेरे वजूद से जुदा हो गई.. आज ज़िन्दगी फिर मुझसे खफा हो गई.. जो कहते थे मुझको हम अपने है तुम्हारे... आज इक... Read more
कितने  बदल गये हालात किसी के जाते ही ..
कितने बदल गये हालात किसी के जाते ही बदली मौसम की भी जात किसी के जाते ही गम किस बला का नाम है दर्द का... Read more
क्या बतायें तमाशा हुआ क्या
क्या बतायें तमाशा हुआ क्या देखिये और होता है क्या-क्या क्या अना, क्या वफ़ा, है हया क्या इस अहद में भला क्या, बुरा क्या बेनिशां... Read more