Mar 10, 2017 · मुक्तक
Reading time: 1 minute

अहं का अंकुर न फूटे,बनो चित् मय प्राण धन

मर न जगमय मौत,हँस गह अमऱता का ज्ञान कन |
जूझ मत, यह जिंदगी, सचमुच सजग आनंद पन |
मुसकराना सीखकर भय मुक्त बन, लेकिन कभी,
अहं का अंकुर न फूटे , बनों चित् मय प्राण धन|

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता

चित् =आत्मा
प्राण =जीवन

136 Views
Copy link to share
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Pt. Brajesh Kumar Nayak
157 Posts · 41.2k Views
Follow 10 Followers
1) प्रकाशित कृतियाँ 1-जागा हिंदुस्तान चाहिए "काव्य संग्रह" 2-क्रौंच सु ऋषि आलोक "खण्ड काव्य"/शोधपरक ग्रंथ... View full profile
You may also like: