Skip to content

अश्रु-नाद

Dr. umesh chandra srivastava

Dr. umesh chandra srivastava

मुक्तक

July 27, 2016

खो गयी प्रेम की नगरी
झंझा-झंकोर घन घेरे ।
हो हाहाकार हृदय में
सुन अश्रु-नाद को मेरे ।।

लघु बूँदे ले मतवाला
नभ से ऐ ! नीरद माला ।
बुझने दे आँसू-नद से
अभिलाषाओं की ज्वाला ।।

मम् व्यथित हृदय से आती
अंतर्मन में अकुलाती ।
जीवन की नित अभिलाषा
आँसू बनकर बह जाती।।

Share this:
Author
Dr. umesh chandra srivastava
Doctor (Physician) ; Hindi & English POET , live in Lucknow U.P.India
Recommended for you