.
Skip to content

अश्रुनाद

Dr. umesh chandra srivastava

Dr. umesh chandra srivastava

मुक्तक

May 19, 2017

. …. मुक्तक ….

भव- सिन्धु प्रलापित फेरे
लहरें सुनामि बन घेरे
भू- गर्भ प्रकम्पित होता
जब अश्रुनाद से मेरे

डा. उमेश चन्द्र श्रीवास्तव
लखनऊ

Author
Dr. umesh chandra srivastava
Doctor (Physician) ; Hindi & English POET , live in Lucknow U.P.India
Recommended Posts
मुक्तक
होते ही शाम तेरी प्यास चली आती है! मेरे ख्यालों में बदहवास चली आती है! उस वक्त टकराता हूँ गम की दीवारों से, जब भी... Read more