.
Skip to content

अश्रुनाद

Dr. umesh chandra srivastava

Dr. umesh chandra srivastava

मुक्तक

July 2, 2017

…मुक्तक …

मधुऋतु मधुरिम लहराये
सरगम नव वाद्य बजाये
फिर सप्त सुरों में कोयल
जीवन संगीत सुनाये

भावानुवाद ( स्वरचित )

Malodic season looking Sweet .
Instruments playing novel beat.
Cookoo sings in seven tunes .
Life is like music of tweet .

Author
Dr. umesh chandra srivastava
Doctor (Physician) ; Hindi & English POET , live in Lucknow U.P.India
Recommended Posts
मुक्तक
No content
मुक्तक
वक्त हँसाता है वक्त रुलाता है। जो वक्त गँवा दे वो पछताता है।।
मुक्तक स्व- भावानुवादित
. .... मुक्तक .... उर- उदधि- उर्मि लहराती किस ओर बहा ले जाती ? फिर कौन प्राण प्रिय बनकर ? किस छोर कहाँ ले आती... Read more
मुक्तक भावानुवादित
. .... मुक्तक .... गोधूलि सदृश लहराती रञ्जित रजनी सो जाती पपिहा करुणित प्रतिध्वनि भी थक लौट क्षितिज से आती स्व- भावानुवादित Dust of cows... Read more