.
Skip to content

अश्को का अक्स नजर आया है

NIRA Rani

NIRA Rani

कविता

October 27, 2016

अक्सर खुद को खुद से फरेब करते पाया है
दिल मे कुछ जुबॉ को कुछ और कहते पाया है

ओस की बूंदो को जो देखा जी भर के
तो खुद के अश्को का ही अक्स नजर आया है

बह गए कितने किस्से उन अश्को की गली मे
हर किस्से मे तेरा वजूद नजर आया है

बारिश की बूंदे कह गई कुछ किस्से नूरानी
भीगे बिस्तर पर किस्सा तेरा ही नजर आया है

टूटते सितारे से कुछ भी मॉगू कैसे
खुद के सितारों को बेवजह टूटते हुए पाया है

Author
NIRA Rani
साधारण सी ग्रहणी हूं ..इलाहाबाद युनिवर्सिटी से अंग्रेजी मे स्नातक हूं .बस भावनाओ मे भीगे लभ्जो को अल्फाज देने की कोशिश करती हूं ...साहित्यिक परिचय बस इतना की हिन्दी पसंद है..हिन्दी कविता एवं लेख लिखने का प्रयास करती हूं..
Recommended Posts
नजर..।।
??..नजर..?? नजर ने नजर को जब नजर से बुलाया.। नजर ने नजर को तब नजर दिखाया.। ? ? नजर ने नजर से जब नजर मिलाया.।... Read more
एक चेहरा नजर आया
~~~~एक चेहरा नजर आया~~~~ हदों की हद लकीरें, लाँघनी कितनी आसान थी लाँघकर देखा, तो एक चेहरा नजर आया ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ कोई टोके मुझे इस तरह,... Read more
दर्द समझ में आया
छत में खिलखिलाती गुलाब की कलियों ने एक सवाल किया जब मुझे तुमने तोडा था मेरे दर्द का कभी ख्याल किया मैं भी उनसे सहम... Read more
ग़ज़ल- जबसे तेरा ये प्यार पाया है
ग़ज़ल- जबसे तेरा ये प्यार पाया है ◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆ जबसे तेरा ये प्यार पाया है दिल ने असली करार पाया है जाने कैसा सूरूर है छाया... Read more