अवध

ना रही है सुबह-ए-बनारस
ना ही रही है शाम-ए-अवध
ना ही नवाबों की नफ़ासत
ना ही तहज़ीब और
ना ही नज़ाकत…
रौनक-ए-अवध चली गई
ईमान-ए-अवध चला गया
वो शोख़ियां चली गई
वो लफ़्ज़ों की मिठास चली गई
ऐ दिलवर- सुकून-ए-दिल,  
ठुमरी,ग़ज़ल,मुजरा सब चला गया
वो शान-ए-अवध “नवाब” कहाँ चला गया
वो शान-ए-अवध “नवाब” कहाँ चला गया

सुनील पुष्करणा

Do you want to publish your book?

Sahityapedia's Book Publishing Package only in ₹ 9,990/-

  • Premium Quality
  • 50 Author copies
  • Sale on Amazon, Flipkart etc.
  • Monthly royalty payments

Click this link to know more- https://publish.sahityapedia.com/pricing

Whatsapp or call us at 9618066119
(Monday to Saturday, 9 AM to 9 PM)

*This is a limited time offer. GST extra.

Like Comment 0
Views 22

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing