Apr 3, 2020 · शेर

" कला "

🤗🤗🤗🤗🤗🤗🤗🤗🤗🤗🤗🤗

हमें आदत नहीं है किसी से यूं ही रूठ जाने की ,
क्योंकि हमें मालूम है इतना फुर्सत नहीं है किसी के पास हमें मनाने की ।
वो क्या है ना हमें आदत नहीं है किसी को बार बार आजमाने की ,
क्योंकि कला तो हमारे पास भी नहीं है किसी को मनाने की ।।

😊😊😊😊😊😊😊😊😊😊😊😊

🙏 धन्यवाद 🙏

✍️ ज्योति ✍️
नई दिल्ली

1 Like · 2 Comments · 18 Views
पिता - श्री शिव शंकर साह माता - श्रीमती अनिता देवी जन्मदिन - 09-10-1998 गृहनगर...
You may also like: