.
Skip to content

अल्फ़ाज़

Neelam Sharma

Neelam Sharma

गीत

July 7, 2017

मैं अल्फाज़ हूँ तेरी हर बात का अर्थ मालूम है मुझे
मैं एहसास हूँ तेरे जज़्बातों का,मालूम है मुझे
पर कभी तू भी तो कुछ शब्द खुद से कह दे
हाँ मैं अक्स हूँ तेरा ही ,नहीं शक ये मुझे
पर कभी तू भी कुछ रंग मुझ तस्वीर को दे दे
हाँ नहीं पूछा मैंने कि क्यूँ दूर है तू मुझसे
यही चाहत है कि कभी आकर तू खुद ही कह दे….

@?नीलम शर्मा ?

Author
Neelam Sharma
Recommended Posts
हाँ मैं हूँ तेरे िइंतज़ार में
हाँ मैं हूँ तेरे इंतज़ार में मुझे कोई पर्दा नहीं इक़रार में, हाँ मैं हूँ तेरे इंतज़ार में, साँसें रुकी हैं इसी दरकार में, तू... Read more
ग़ज़ल
_________________ मेरा दिल मेरा आईना तो दिखा दे घने सन्नाटे में आवाज़ लगा तो दे ----------------- बात ये नहीं कि कौंन कैसा है यहाँ मैं... Read more
मेरे जज्बात
मेरे जज्बात ********* जब भी देखता हूँ मैं तुझे मेरा दिल भर आता है कितनी खुशमिजाज है तू कितनी खूबसूरत है तू कितनी दिलकश है... Read more
"मैं प्रेम हूँ" प्रेम से भरा है मेरा हृदय, प्रेम करता हूँ, प्रेम लिखता हूँ, प्रेम ही जीता हूँ, मुझसे नफरत करो, मेरा क्या, मुझे... Read more