.
Skip to content

अलाव

लक्ष्मी सिंह

लक्ष्मी सिंह

कविता

February 15, 2017

????
देहाती दुनिया में पुरातन,
प्रभावशाली तकनीक है अलाव।
जो गरीबों को कंपकपाती,
ठंढ़ की मार से करती है बचाव।
?
श्वेत चादर ओढ़े कोहरे के,
डँसती शीतलहर का फैलाव।
चिलचिली सर्द भरी धूँध,
से भरे मौसम का ये बदलाव।
?
ठंढ़ी-ठंढ़ी शीतकालिन,
पछुआ सर्द हवाओं का बहाव।
देह के अस्तित्व पर चुभती,
सुई सी ठिठुरनों का दबाव।
?
अग्नि के चारो तरफ बैठे,
लोगों का संकुचित घेराव।
उठती चिंगारियों की लपटों,
लहलहाती आँच का गर्माव।
?
धुआँ से आँखों में हो रहे,
किरकिरी,आँसुओं का छलकाव।
ठंढ़ से मरती जिंदगियों में,
जोश भरती उष्णता का प्रभाव।
?
आग में जला आलू,बैगन,टमाटर
की चटनी,चोखा का स्वाद लाजबाव।
गरम-गरम धी में
डूबा,लिट्टी में सत्तु का भराव।
?
प्रेम रसों का इसमें,
थोड़ा-थोड़ा सा छिड़काव।
इसके सामने फीका है,
मुगलई बिरयानी और पुलाव।
?
किस्से सुनाते बुढ़े-बुजुर्ग अपने
जवानी की देकर मुछों पर ताव।
ध्यान से सुनते सभी बड़े-बच्चे,
ऐसे कि जाने कितना हो सुनने में चाव।
?
कोई सुनाता,गीत,सोहर,
तो कोई जोक, लतीफे बेहिसाब।
खत्म करता हुआ ,
रिस्तों में पड़ा हुआ अलगाव।
?
छोटे-बड़े सबके चेहरे पर,
अन्जाने से खुशियों का ठहराव।
महिला-पुरूष,छोटे-बडे सभी,
बैठे हैं एक साथ मिटाकर भेदभाव।
?
खुश मिजाज हैं सभी मस्त,
बदला-बदला सा सबका स्वभाव।
आँखों में जाने छुपें हुए,
छलक उठे कितने तरह के भाव।
?
आते-जाते लोग भी आग देख,
रूक कुछ पल को डालते पड़ाव।
कोई सेकता हाथ और पाव,
कोई करता रिस्तों का सेंकाव।
?
प्रसुति महिला के लिये,
संजिवनी का काम करता अलाव।
खाट के नीचे रखकर,
करती कमर का सेकाव।
?
कमर दर्द की शिकायत में,
सुपर आयोडेक्स है इसका सुझाव।
ग्रामिण क्षेत्रों में ठंढ़ से बचने का,
अलाव सबसे नयाब नुस्खा है जनाब।
????—लक्ष्मी सिंह?☺

Author
लक्ष्मी सिंह
MA B Ed (sanskrit) My published book is 'ehsason ka samundar' from 24by7 and is a available on major sites like Flipkart, Amazon,24by7 publishing site. Please visit my blog lakshmisingh.blogspot.com( Darpan) This is my collection of poems and stories. Thank... Read more
Recommended Posts
कविता
सर्द हवा इन दिनों दस्तक सुखी -सुखी, सर्द हवाओं का एक हिस्से मे सर्द एक हिस्से मे थोड़ा दर्द का यादों मे है सीलन सा... Read more
ठंढ आयी, सर्द हवा चली
???? ठंढ आयी,सर्द हवा चली, दिन छोटे हुए,रात बड़ी। ठंढी तीखी हवा चली, छूते तन पर सूई चूभी। रखी रजाई बाहर निकली, और गर्म लिबादें... Read more
इलाही रहम कर मुझ पर
इलाही!!! रहम कर मुझ पर मेरे सीने में फिर से दर्द उठता है सुलगता है अलाव की तरह मेरी पलकों से कुछ उम्मीदें आंसू बन... Read more
अनकही सी बातें
चले आओ मेरे साथिया सावन मे फुहार की तरह फागुन मे मल्हार की तरह जेठ मे तपन की तरह या दिसम्बर मे सर्द रातों की... Read more