.
Skip to content

अलहड़ बेटी

umesh mehra

umesh mehra

गज़ल/गीतिका

April 12, 2017

मैं अलबेली अलहड़ बेटी ,हूँ मैं बड़ी सयानी ।
घर ऑगन की शोभा हूँ मैं, पापा की हूँ रानी ।।
खाना पीना पढना लिखना सब कुछ अच्छा लगता है ।
माँ की डांट भाई से झगड़ा मुझको अच्छा लगता है ।।
पंख मिले तो उड़ जाऊं मैं, आसमान को छू आऊँ ।
पर्वत भी गर आये राह में ,उससे भी टकरा जाऊँ ।।
छेड़ोगे तो बनूँ शेरनी ,नहीं तो तितली रानी ।
मैं अलबेली ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,।।
न मैं अबला न बेचारी ,न मैं दया की पात्र हूँ ।
मेरी भी है कुछ इच्छाये ,मैं बस नारी मात्र हूँ ।।
फूलों सी नाजुक हूँ लेकिन, उर में हृदय कठोर है ।
भेदभाव अब नहीं सहूंगी,नये समय की भोर है ।।
नभ हो थल हो या जल की करनी हो निगरानी ।
रख काँधे बंदूक बनूँ में, हिन्द देश की सेनानी ।।
मै अलबेली,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,।
पापा का मैं गौरव बनकर ,अपना नाम कमाऊ ।
नारी की शक्ति है क्या,ये दुनिया को बतलाऊं ।।
जल की हूँ मैं अविरल धारा ,रूकने का अब काम नहीं ।
जब तक मंजिल मिले न मुझको,थकने का अब काम नहीं ।।
बेटा है इक घर का राजा मैं दो कुलों की महारानी ।
मैं अलबेली अलहड़ बेटी हूँ मैं बड़ी सयानी ।।

उमेश मेहरा
गाडरवारा (मध्य प्रदेश )
9479611151

Author
umesh mehra
Recommended Posts
मैं बेटी हूँ
???? मैं बेटी हूँ..... मैं गुड़िया मिट्टी की हूँ। खामोश सदा मैं रहती हूँ। मैं बेटी हूँ..... मैं धरती माँ की बेटी हूँ। निःश्वास साँस... Read more
"बेटी" मन लगाकर पढ़ती हूं , और शान से जीती हूं ! मैं तो अपने पापा जी की अच्छी वाली बेटी हूं !! भ्रूण हत्या... Read more
अच्छी बेटी
सभी बेटियों को समर्पित ! मन लगाकर पढ़ती हूं , और शान से जीती हूं ! मैं तो अपने पापा जी की अच्छी वाली बेटी... Read more
मैं शक्ति हूँ
" मैं शक्ति हूँ " """""""""""" मैं दुर्गा हूँ , मैं काली हूँ ! मैं ममता की रखवाली हूँ !! मैं पन्ना हूँ ! मैं... Read more