अलबेला हूँ

अलबेला हूँ

!

भीड़ में खड़ा हूँ, फिर भी अकेला हूँ
कदाचित इसीलिए मै अलबेला हूँ !
!
शोरगुल में धँसा पड़ा हूँ
आफतो में फँसा पड़ा हूँ
रोता सा मै हँसा खड़ा हूँ
जनसमूह ने धकेला हूँ, फिर भी मै अलबेला हूँ !!
!
गैरो के लिये तो मैला हूँ
अपनों के लिये छैला हूँ
दुखियो के सदा गैला हूँ
कोई कहे आदतन हठेला हूँ, पर जैसा भी हूँ अलबेला हूँ !!
!
दिखावे का विरोधी हूँ
जागरूकता का रोधी हूँ
जमाना कहे अवरोधी हूँ
आलोचनाएं झेला हूँ ,कारणवश मै अलबेला हूँ !!
!
साधारण सा कर्म योगी हूँ
स्वस्थ होकर भी रोगी हूँ
विषाक्त समाज में भोगी हूँ
जीता नहीं पर खेला हूँ, क्योकि मै सबसे अलबेला हूँ !!
!
मन मस्त मलंग मै रहता हूँ
हर दुःख दर्द हँसके सहता हूँ
निसंकोच दिल की कहता हूँ
दुनिया की नजर में वेला हूँ, समझता खुद को अलबेला हूँ !!
!
हमेशा सबकी सुनता हूँ
अपनी कब कह पाता हूँ
खुद ही में खोया रहता हूँ
सबकी नजर में पागलो का चेला हूँ, सम्भवत अलबेला हूँ !!
!
भीड़ में खड़ा हूँ, फिर भी अकेला हूँ, कदाचित मै अलबेला हूँ !
संशय में हूँ पर जिंदगी को ठेला हूँ , यक़ीनन मै अलबेला हूँ !!

!
!
!
डी के निवातिया

***

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 156

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share