अर्द्धांगिनी

अर्द्धांगिनी
————-
अर्द्धांगिनी हो तुम अपने पिया की आधा हक तुमको मिलता है!
तो इस करवाचौथ ज़रा सा हक उनके नाम भी कर दो तो ?

सदा से पूरी करते आए हर बात तुम्हारी मनचाही वो
इस बार तुम भी उनका कुछ मनचाहा सा कर दो तो ?

कितने ही मौकों पर चटकीली साड़ी-सूट तुम्हें दिलवाए
इस बार कोई बढ़िया सी शर्ट तुम ही गिफ्ट कर दो तो ?

बेशकीमती गहनों के दे डाले उपहार तुम्हें यूं ही
इस बार तुम गोल्ड टाई पिन का सरप्राइज़ उनकी नज़र कर दो तो ?

अनगिनत खूबसूरत शामों की वो आऊटिंग तुम्हारी
इस खूबसूरत शाम के डिनर का बिल तुम ही भर दो तो ?

जल का पहला घूंट पिलाकर व्रत तुम्हारा संपूर्ण कराया
इस बार अपने उधरों से उसी व्रत का पहला चुंबन तुम उन पर अंकित कर दो तो ?

वो थाली से कौर खिलाते तुम्हें सबसे पहला
इस बार अपने हाथों से पहला निवाला उनकी ओर कर दो तो ?

अपना हक तो मांगती ही आई हो तुम हमेशा से
इसबार उनको भी उनके हक का कुछ उनके बिन मांगे ही दे दो तो ?

*कर के देखो, अच्छा लगेगा !
Enjoy this Festive season with this “अर्द्धांगिनी” spirit !🌹
Sugyata

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 5

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share