" --------------------------------------------अर्थ समझ गये गहरे " !!

गहरे जल में बिम्ब उभरते , अनजाने से गहरे !
दर्पण दिखलाता है हमको , काहे अक्स रूपहरे !!

गहराई से डर लगता है , लहरों से हम खेलें !
समय ने बैठाये रखे हैं , जगह जगह पर पहरे !!

घाट घाट का पानी पीकर , हो गए लोग सयाने !
दुनिया को देते रहते हैं , घाव बड़े औ गहरे !!

आस लगाकर दीपक छोड़ा , बाती देख रही हूं !
तूफानी लहरें टकराये , जोत जोश की फहरे !!

तट पर लहराईं खुशबू है , नहीं मोगरा वश में !
अधरों पर मुस्कान सजी है , भूल गये ककहरे !!

बिन काजर अँखियाँ कजरारी , तुमको कैद किया है !
टिकी हुई नज़रें दुनिया की , सपने सभी चितहरे !!

मौन घाट है मौनी लहरें , मौनी बहती धारा !
जहां मौन से नाता जोड़ा , अर्थ समझ गये गहरे !!

बृज व्यास

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 139

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share