" -------------------------------------- अरमानों का खेला " !!

थोड़ा सा विश्राम दूं तन को , मन भी लगे थकेला !
काटे से कटते ना दिन है , समय बड़ा अलबेला !!

सज़ धज कर श्रृंगार किया है , बाट जोहती आंखें !
अंतर्मन की चाहत को है , तुमने पल पल ठेला !!

संदेशों से पा जाते हैं , ऊर्जा नई नई सी !
तुम आये तो सज़ जाता है , अरमानों का खेला !!

ताने खूब सुना करते हैं , आँचल कोरा कोरा !
लक्ष्य तुम्हारा लिये सामने , कठिन लगे है बेला !!

सेवा भाव बन्धा है पल्लू , मोल कोइ ना जाने !
कमजोरों को खाने पढ़ते , यहां सदा ही ढेला !!

शिक्षा दीक्षा गांठ बन्धी है , यही काम बस आवे !
चतुर जनों के पास भीड़ है , हम तो रहे अकेला !!

अल्हड़ता खोयी खोयी है , गुमसुम है खुशहाली !
यहां प्रतीक्षित अभी लगे है , परिवर्तन का रेला !!

मुस्कानों के तीर जगाकर , अपनी पीर भुला दूं !
तुम आये तो लग जायेगा , उम्मीदों का मेला !!

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 151

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share