कविता · Reading time: 1 minute

अमीर गरीब

गरीब के पास
पैसा नहीं
पर दिल है
आत्मा है
अमीर के पास
धन है
पर न दिल है
न आत्मा है
कोई मुसीबत में
होता है या
मरता है तो
गरीब आगे बढ़कर
उसकी जितना बन
पड़ता है
मदद करता है
रोता है
तड़पता है
अमीर इन हालातों में
सिर पर पांव रखकर भाग
खड़ा होता है
न तन से, न मन से,
न धन से
वह कहीं सहयोग नहीं करता
अपने परिवार का कोई
सदस्य भी मरता है तो
वह मन ही मन खुश
होता है और
उससे कुछ प्राप्त हो जाये
धन संचित हो जाये
बस यही कोशिश और
कामना करता है।

मीनल
सुपुत्री श्री प्रमोद कुमार
इंडियन डाईकास्टिंग इंडस्ट्रीज
सासनी गेट, आगरा रोड
अलीगढ़ (उ.प्र.) – 202001

1 Comment · 37 Views
Like
307 Posts · 16.4k Views
You may also like:
Loading...