अमर कोंच-इतिहास

मुक्तक
……..
कोंच भी आनंद-पथ सह ध्यान है |
क्रौंच ऋषि -आलोक का प्रतिमान है |
राष्ट्रहित में बढे पग, फिर ना रुके |
वीरता के गान का सोपान है |

राष्ट्हित में वीरता के हाथ बन |
झाँसी की रानी के थे सब साथ जन |
लड़े पृथ्वीराज,बैरागढ पहुँच |
चौंड़िया था साथ,बल का क्वाथ बन |

गीत
……
अमर कोंच-इतिहास यहाँ पर पृथ्वीराज-निवास,
रहा,संग में चंद्रभाट ने आकर किया प्रवास |

महायुद्ध की शंका आए चंद्रभाट सँग भूप |
क्रौंच सु ऋषि-तपभू खुदवायी, समरभूमि -अनुरूप |
चंद्रभाट कवि-कूप के लिए पत्थर लिया तराश |
अमर कोंच-इतिहास यहाँ पर पृथ्वीराज-निवास,
रहा, संग में चंद्रभाट ने आकर किया प्रवास |

झील बँट गई दो तालों में,अब भी हैं अवशेष |
ताल भुजरिंयाँ इक तो दूजा चौड़ा ताल ‘ बृजेश ‘|
बारह खंभा,*’बड़ माता-गृह’ का भी हुआ विकास |
अमर कोंच-इतिहास यहाँ पर पृथ्वीराज-निवास,
रहा,संग में चंद्रभाट ने आकर किया प्रवास |

सैन्य प्रशिक्षण चरमरूप पर लड़ते ज्यों दो राज |
**’बैरागढ’ रणभूमि बनेगी,पहनू विजयी ताज |
सीखें सभी वीर रण-कौशल, करें जीत की आश |
अमर कोंच-इतिहास यहाँ पर पृथ्वीराज-निवास,
रहा,संग में चंद्रभाट ने आकर किया प्रवास |

वीरों ने स्व ध्वज फहराया महायुद्ध के पहले |
बावन गढों का रण होगा, सुनकर के दिल दहले |
महायुद्ध के खातिर कीन्हा दिल्ली-भूप-प्रवास |
अमर कोंच-इतिहास यहाँ पर पृथ्वीराज-निवास,
रहा ,संग में चंद्रभाट ने आकर किया प्रवास |

सारी पैदल सैना ***’निरझर सागर’ निकट खड़ी थी |
गज, घोडा व हथियारों से पटी हुई धरती थी |
रथ के ऊपर राजा बैठे कोंच हो गई खास |
अमर कोंच-इतिहास यहाँ पर पृथ्वीराज-निवास,
रहा,संग में चंद्रभाट ने आकर किया प्रवास |

दिल्ली के राजा पृथ्वी ने परखे शस्त्र विशेष |
इसके पहले ‘क्रौंच सु ऋषि’ ने दिया प्रेम-संदेश |
प्रीतिभाव-सद्ज्ञान -वीरता का है यहाँ प्रकाश |
अमर कोंच-इतिहास यहाँ पर पृथ्वीराज-निवास,
रहा,संग में चंद्रभाट ने आकर किया प्रवास
…………….. …………………………………………

*’बड़ माता-गृह’=बड़़ी माता का मंदिर

(भारतवर्ष में उत्तर प्रदेश प्रांत के जिला-जालौन में स्थित “कोंच नगर” (क्रौंच ऋषि की तपोभूमि) का सबसे प्राचीन मंदिर ,”नरसिंह भगवान” का मंदिर” है| “नरसिंह भगवान” के मंदिर के बाद ,कोंच नगर का दूसरा प्राचीन मंदिर “बड़ी माता का मंदिर”है )

**बैरागढ = कोंच से एट मार्ग होते हुए,एट के पहले बैरागढ -मार्ग पकड़ कर ‘बैरागढ’ पहुँचा जा सकता है| ‘बैरागढ’ जिला-जालौन ,उ प्र,भारत,मे एट के समीप स्थित है| बैरागढ में माँ शारदा का पावन मंदिर है, इसी मंदिर के आस-पास खाली पड़ी जमीन पर ‘बावन गढ़ की लड़ाई’ हुई थी| इस महा युद्ध में (बावन गढ़ों की लड़ाई में) युधिष्ठिर के अवतार, वीर आल्हा ने जमीन में एक साँग गाड़ दी थी ,जो आज भी गड़ी हुई है | महोवा के वीर योद्धा ,युधिष्ठिर एवं भीमसेन के अवतार आल्हा एवं ऊदल की वीरता की खुशी में ,’माँ शारदा’ के मंदिर पर अभी भी प्रति वर्ष मेला लगता है|

***’निरझर सागर’ =निरझर से मिला हुआ बड़ा तालाब

{बैरागढ के महा संग्राम(बावन गढ की लड़ाई) में चौंड़िया राय की मृत्यु , दिल्ली के राजा पृथ्वीराज चौहान की पराजय एवं महोवा के वीर योद्धा ,युधिष्ठर के अवतार, आल्हा की विजय के बाद ‘निरझर सागर’ चंदेल वंश के राजा श्री परमल/ श्री परमाल (परमर्दिदेव) के शासन में चला गया, परमल/परमाल(परमर्दिदेव) के शासन -काल में ‘निरझर सागर’, निरझर से पृथक हुआ, जो आज भी कोंच,जिला-जालौन, उ प्र, भारतवर्ष में ‘सागर ताल’ के रूप में विद्यमान है |}

-चंदेल वंश के राजा परमल/परमाल( परिमर्दिदेव )की पत्नी ‘मल्हना’ ने महोवा के वीर योद्धा ‘ ऊदल ‘ का पुत्र की तरह पालन-पोषण किया था |
……………………………………………………………
‘अमर कोंच-इतिहास’ रचना, वर्ष 2018 में ‘साहित्यपीडिया पब्लिसिंग’ से प्रकाशित मेरी तीसरी कृति (रचना संग्रह) ” पं बृजेश कुमार नायक की चुनिंदा रचनाएं ” में भी पढी जा सकती है | “पं बृजेश कुमार नायक की चुनिंदा रचनाएं” कृति /रचना संग्रह, अमेजोन, फ्लिपकार्ट तथा साहित्यपीडिया स्टोर पर उपलब्ध है |
…………………………………………………………

-दिल्ली से प्रकाशित राघवेंद्र ठाकुर की ई पत्रिका “नारी शक्ति सागर” में भी मेरी रचना “अमर कोंच-इतिहास” पढी जा सकती है |

-‘अमर कोंच-इतिहास” रचना, दिल्ली से प्रकाशित राघवेंद्र ठाकुर की पत्रिका “हिंदी सागर” वर्ष-2, अंक-2,माह-अप्रैल से जून 2018 के पृष्ठ संख्या -04पर भी पढी जा सकती है |
……………………………………………………….

पं बृजेश कुमार नायक
‘जागा हिंदुस्तान चाहिए’, ‘क्रौंच सु ऋषि-आलोक’ एवं ‘पं बृजेश कुमार नायक की चुनिंदा रचनाएं’ कृतियों के प्रणेता |
………………………………………………………..
(C) -पं बृजेश कुमार नायक, सर्वाधिकार सुरक्षित
……………………………………………………….

…………………………………………………………..
चंदेल वंश के राजा, परमल/परमाल/परिमर्दिदेव का शासन-काल 1165 से 1203 तक रहा
…………………………………………………….

Like 1 Comment 1
Views 444

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing