.
Skip to content

” अभी बहुत कुछ , छूटा सा है ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

कविता

January 19, 2017

तेज़ भर रहा ,
वक़्त कुलांचें !
मन की पीड़ा ,
कौनहु बाँचें !
शुष्क अधर हैं ,
पलकें बोझिल !
पलते सपने ,
झिलमिल झिलमिल !
अपना साहिल –
रूठा सा है !!

जगी उम्मीदें ,
हरी भरी हैं !
मिली जो राहें ,
वे संकरी है !
बिदकता सूरज ,
वहां न चमके !
हमें है लड़ना ,
अपने दम पे !
अपना सपना –
टूटा सा है !!

मन ही मन में ,
गाँठ बाँध लें !
क्या करना है ,
अभी ठान लें !
दरक रहे हैं ,
पल पल रिश्ते !
हाथों से सब ,
यहाँ फिसलते !
रब भी लगता –
झूंठा सा है !!

गरल मिला है ,
यहाँ वहां से !
सुधा की बूँदें ,
अभी कहाँ हैं !
विषपायी बन ,
लड़ना बाकी !
दृग में बसी ,
मनोरम झांकी !
भाग्य बदलना –
रूठा सा है !!

Author
भगवती प्रसाद व्यास
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में... Read more
Recommended Posts
सच में लगा इंसान सा......
एकांत में चुपचाप सा शांत सा मगन में मगन इंसान सा, तल्लीन किसी लय में ऊँगली से बजती चुटकी को संगीत बना, कुछ गुनगुना रहा... Read more
विचलित सा मन
विचलित सा मन है मेरा कभी तरु छाया के अम्बर सा कभी पतझड़ के ठूंठ सा कभी प्रसन्न मैं,कभी दुखी क्रोधित सा मैं भींगा-भांगा सा,डरा... Read more
मन मेरे तू सावन सा बन
मन मेरे तू सावन-सा बन ! मृदुल मधुर भावों से अपने कर दे जग को पावन-पावन मन मेरे तू सावन-सा बन ! मिट जाए चाहे... Read more
अलसायी सी सुबह
आज अलसायी सी सुबह है, उचटा सा मन है न लिखने को शब्द हैं न कोई ख्याल है... सोचा,इस अलसायी सी सुबह में कुछ फूल... Read more