.
Skip to content

अब ये न बेबसी रहे

Pritam Rathaur

Pritam Rathaur

गज़ल/गीतिका

September 12, 2017

ग़ज़ल
*******
ग़र चाँदनी खिली रहे
तो दूर तीरग़ी रहे
?
अरमान सारे ख़ाक़ हैं
बस दिल में बेबसी रहे
?
खुशियाँ मिली है सारी तो
आँखों में क्यों नमी रहे
?
रूठो न यार मुझसे तुम
ये दोस्ती बनी रहे
?
आखों से जाम छलका दे
फिर दूर तिश्नग़ी रहे
?
जब तक रहे तू सामने
ये सांस भी रुकी रहे
?
दामन छुड़ा न मुझसे तू
कुछ देर और खड़ी रहे
?
मँहगाई ने रुला दिया
अब ये न मुफ़लिसी रहे
?
अब हम जहाँ मिलें सनम
वो शाम क्यूँ ढली रहे
?
तेरे बग़ैर होठों पर
फ़रियाद इक दबी रहे
?
“प्रीतम” न प्यार हो जुदा
सबको सनम मिली रहे
?
प्रीतम राठौर भिनगाई
श्रावस्ती (उ०प्र०)
?????????
2212 1212
????????

Author
Pritam Rathaur
मैं रामस्वरूप राठौर "प्रीतम" S/o श्री हरीराम निवासी मो०- तिलकनगर पो०- भिनगा जनपद-श्रावस्ती। गीत कविता ग़ज़ल आदि का लेखक । मुख्य कार्य :- Direction, management & Princpalship of जय गुरूदेव आरती विद्या मन्दिर रेहली । मानव धर्म सर्वोच्च धर्म है... Read more
Recommended Posts
चार गज़लें --- गज़ल पर
गज़ल निर्मला कपिला 1------- मेरे दिल की' धड़कन बनी हर गज़ल हां रहती है साँसों मे अक्सर गज़ल इनायत रफाकत रहाफत लिये जुबां पर गजल... Read more
आँखों में क्यूँ नमी रहे
ग़र चाँदनी खिली रहे तो दूर तीरग़ी रहे अरमान सारे ख़ाक़ हैं बस दिल में बेबसी रहे खुशियाँ मिली है सारी तो आँखों में क्यों... Read more
जीवन भी तू
मुझसे खपा न होना कभी तू जीवन भी तू दुनिया भीै तू तू ही तो खुशियां देती है जान मेरी  तू चाहत भी तू बचपन... Read more
रिश्ते भूल गया दूर हो के ||ग़ज़ल||
रिश्ते भूल गया दूर हो के क्यों अँधेरा ज़िंदगी नूर हो के जीना तू तो भूल ही गया दौलत के नशे में चूर हो के... Read more