Skip to content

अब तक मेरी निगाहों में आया नही कोई

Shoaib Ashq

Shoaib Ashq

कव्वाली

January 26, 2017

अब तक मेरी निगाहों में आया नही कोई
आका हैं जैसे आज भी वैसा नही कोई

मिसले नबी तो दुनिया में कोई न है न होगा
यह शाने लताफत है के साया नही कोई

ईमान मेरा है यही मेरा अकीदा है
सरकार के जलवों सा जलवा नही कोई

यारब कभी हो मुझको ज़ियारत मदिनें की
शहरे मदीना जैसा है वैसा नही कोई

ऐ शाहे दो जहाँ मुझे चौखट पे बुलालो
तेरे सिवा “शोएब” का अपना नही कोई

Share this:
Author
Shoaib Ashq
Recommended for you