.
Skip to content

” ——————————————- अब तक बाँच न पाया ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

गीत

September 23, 2017

तेरी चाहत को पूजा है , सिर माथे बिठलाया !
आँखियों में क्यों नमी तैरती , कोई जान न पाया !!

सबका अपना अहम बोलता , हम तो यों ही डोलें !
वामा तो बस है निरीह सी , बदले में यह पाया !!

दीवारों में कैद लगे है , अब उड़ान सपनों की !
मन का भेदी मेरे मन को , अब तक बांच न पाया !!

सजधज तो है ऐक दिखावा , बन्धन कसे कसे से !
मनवा यहाँ घिरा है ऐसा , बाहर झांक न पाया !!

जागी जागी सी उम्मीदें , पलकें सजी सजी सी !
अधरों पर खामोशी बरबस , इतना हाथों आया !!

मुस्कानें मिल जाएं सहज सी , अपनी चाह निराली !
तुम गर झांको दिल के अन्दर , सब कुछ हमने पाया !!

बृज व्यास

Author
भगवती प्रसाद व्यास
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में... Read more
Recommended Posts
बात दिल की कह न पाया
बात दिल की कह न पाया, दूर तुम से रह न पाया, कश्मकश सी दिल में मेरे, चाह कर भी कह न पाया, देख तुझ... Read more
कुछ अनकही, कुछ अनसुनी है ये जिन्दगी बडी अनबुझी कुछ अनछुयी , कुछ अनसिली है ये ज़िंदगी बडी अनसुलझी कोई कह न पाया ,सुन न... Read more
मुक्तक
तेरे बगैर जिन्दगी रूठी हुई सी है! मंजिल भी आगोश से छूटी हुई सी है! जागी हुई सी रहती हैं ख्वाहिशें लेकिन, अब राह उम्मीदों... Read more
हमसफ़र
एक ख़्वाब ही था तुम्हें पाना जीवन में था हमेशा से ये डर जो तुम्हें ना पाया मैंने मुश्किल हो जाएगी जीवन डगर आज तुमको... Read more