.
Skip to content

अब चलूंगी मैं..

मोनिका भाम्भू कलाना

मोनिका भाम्भू कलाना

कविता

January 5, 2017

तुम मिलों न मिलों
अब चलूंगी मैं…
तुम हो न हो
अब जियुंगी मैं
तुम मेरे रहो न रहो
अब न रुकूँगी मैं…|
अब मुझे चलना ही होगा
अब मुझे बढ़ना ही होगा
कदम थके ही सही,
रास्ता कोई नया चुनना ही होगा |
तुम मिल भी गए अगर
तो मिलना न रहा
काबू रख जज्बातों को
अपने अरमानों को कुचलना ही होगा |
तुम थे तो एक सहारा था
दूर ही सही कोई किनारा था
अब जब ज़िन्दगी दामन छोड़कर
निकल ही गई है
हर पल मौत से गुजरना होगा l
जिसके लिए मर गई हूँ
उसी के लिए मुझे जीना होगा
अब मुझे चलना ही होगा..|

Author
मोनिका भाम्भू कलाना
कभी फुरसत मिले तो पढ़ लेना मुझे, भारी अन्तर्विरोधों के साथ दृढ़ मानसिकता की पहचान हूँ मैं..॥
Recommended Posts
क्यों हो खफा यू तुम बताओ अब मुझे
क्यों हो खफा यू तुम बताओ अब मुझे, चुप इस कदर रह मत सताओ अब मुझे, अच्छे नहीं लगते मुझे रूठे से तुम, कोई सुहाना... Read more
दर्द दिल का न जलाओ तुम
दर्द दिल का न जलाओ तुम अब न मेरे करीब आओ तुम जख्म मेरा भरा नहीं है अभी यूँ न सितम ये और ढाओ तुम... Read more
तेरी जरुरते मेरी चाहत
अगर मैं तुम्हे भूल जाऊ तो मुझे बेवफ़ा कहना, तेरी वफ़ा ना सही बेवफ़ाई तो याद रखुगी मैं ! अब ना जख्म भरेगे, ना दिल... Read more
बेटियां
मैं नहीं वो कली अब, खिली हो जो मुरझाने को, अब नहीं मैं अबला नारी, बनी हो जो सताने को. नहीं बनना है अब मुझे,... Read more