अब कैसे दिन आएंगे???

?
अब कैसे दिन आएंगे
〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰
एक महानुभाव ने आकर के
पूछा ये आँख मिलकर के ।
अच्छे दिन तो हुए पुराने
अब कैसे दिन आएंगे ??

मैं मुस्काया,आदत है अपनी,
और कहा कि गौर दीजिये ।
अच्छे बुरे को तज दुनियाँ में
सच्चे दिन आ जायेंगे ।।
अच्छे दिन तो हुए पुराने………..

सुनिए गर मंशा हो सच्ची
सत्य जानने की इच्छा हो ।
न्याय के आते ही जीवन से
पाप स्वतः मिट जायेंगे ।।
अच्छे दिन तो हुए पुराने…………

चार हाथ करने से अबतक
कुछ भी तो हासिल ना हुआ ।
हाथ सत्य का करो बलि
निर्बलता सब मिट जाएंगे ।।
अच्छे दिन तो हुए पुराने…………

एक मिली थी रूह मुझे
कहने लगी कितना देरी है ।
मैंने बतलाया उनको कि
अब बजने लगी रणभेरी है ।।
अच्छे दिन तो हुए पुराने…………..

कुछ ही पल बाकी विहान को
फिर करुणारुण आएंगे ।
न्यायधर्म से धरती पर
फिर से सतयुग आ जाएंगे ।।
अच्छे दिन तो हुए पुराने…………


NDS सामरिक अरुण
झारखण्ड बिहार
www.nyayadharmsabha.org

Like Comment 0
Views 14

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share