अब और नही (नियोजित शिक्षक)

बहुत कहा बहुत सुना
बहुत हुई मनमानी,
न्यायालय ने भी लिख दिया
अपनी गजब कहानी ,
अब और नहीं चाहिए सरकार की रजामंदी
बस सिर्फ़ और सिर्फ सम्पूर्ण तालाबंदी ।

जब शासक कर दे सांस लेना मुश्किल
उखाड़ देना चाहिए उसके लम्बे कील ,
सरकार की आदत अब न सुधरेगी
हालत शिक्षकों की और बिगड़ेगी ,
टूटे से जुटे सही ,फूटे से भाग्य बिगड़ जाय
इसलिए मिलकर करें पाबंदी
बस सिर्फ़ और….तालाबंदी ।

हक हमारा दूर हुआ क्यों
शासक इतना क्रूर हुआ क्यों,
अब हमनें ठाना है
सब को एक हो जाना है
बाज न आये अपनी आदत से
सरकार की नीति गन्दी
बस सिर्फ़ और…तालाबंदी ।

अब और सहा न जाएगा
शिक्षक भूखे मर जायेगा,
आर-पार की होगी लड़ाई
अब हमनें क़सम है खाई,
चाहे हो तंगी , चाहे हो मंदी
अब और नही सिर्फ ……सम्पूर्ण तालाबंदी

अस्त्र उठाओ ,शस्त्र उठाओ (हिंसा नही)
चुनौती दो सरकार को,
बार-बार न समय मिलेगा
तोड़ दो अहंकार को ,
कागज क़लम छोड़कर स्कूल में तालाबंदी
अब सम्पूर्ण तालाबंदी ,सम्पूर्ण तालाबंदी ।

।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।

तालाबंदी में मेरा भी सहयोग

साहिल सर

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like 2 Comment 0
Views 142

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share