.
Skip to content

अफ़सोस

dr. pratibha prakash

dr. pratibha prakash

कविता

July 31, 2016

अफ़सोस जताने ये मन निकला
क्यों ज्ञान में खोखलापन निकला
हम करते रहे श्रेष्ठ सिद्ध स्वयं को
मन से न अहम का घुन निकला
परिवार बिना माने अबला
ये कैसा नया उसूल निकला
जो साथ रहे बनकर सहयोगी
उन पर फिर ये रोष ही निकला
नहीं स्वीकार किया नवसुमन को
ये मधुवन क्यों पतझड़ निकला
अनुभव फीका क्यों पड़ जाता
जब अंकुर कोई नया निकला
अभी देर बहूत है समझाने में
वास्तव समझा क्या क्या निकला
आओ कारें फिर मन्थन चिंतन
बोया आम तो क्यों बबूल निकला
आग्रह है मानसिकता बदलो
तिमिर मिटा नव मार्ग निकला
हे श्री मदन कृपा कर दो
आ पाये हमे मिलजुल चलना
आहत बहुत मैं दृष्टिकोण से
क्यों स्त्री को इतना तुच्छ समझा
हे विवेक शील विद्जन जानो
यहीं सृष्टि का उदभव निकला

क्षमा सहित
??????

Author
dr. pratibha prakash
Dr.pratibha d/ sri vedprakash D.o.b.8june 1977,aliganj,etah,u.p. M.A.geo.Socio. Ph.d. geography.पिता से काव्य रूचि विरासत में प्राप्त हुई ,बाद में हिन्दी प्रेम संस्कृति से लगाव समाजिक विकृतियों आधुनिक अंधानुकरण ने साहित्य की और प्रेरित किया ।उस सर्वोच्च शक्ति जसे ईश्वर अल्लाह वाहेगुरु... Read more
Recommended Posts
दिल से उसके जाने कैसा बैर निकला
दिल से उसके जाने कैसा बैर निकला जिससे अपनापन मिला वो ग़ैर निकला था करम उस पर ख़ुदा का इसलिए ही डूबता वो शख़्स कैसा... Read more
गजल गीत का सौदागर
Ashutosh Jadaun गीत Jul 28, 2017
मैं गजल गीत का सौदागर कुछ गीत बेचने निकला हूँ । जो दर्द दफन है सिने मे वो दर्द बेचने निकला हूँ ।। मैं गजल... Read more
ग़ज़ल- जबसे निकला है बेवफा कोई
ग़ज़ल- जबसे निकला है बेवफा कोई ★★★★★★★★★★★★★★★★ जबसे निकला है बेवफा कोई मर्द हो के भी रो रहा कोई ... देखो कैसे उदास बैठा है... Read more
ग़ज़ल- नहीं सोचा वही
ग़ज़ल- नहीं सोचा वही... ◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆ नहीं सोचा वही हर बार निकला सितमगर तो मेरा ही यार निकला मुहब्बत से भरीं आँखें ये तेरी लबों से... Read more