Skip to content

अपेक्षायें

ईश्वर दयाल गोस्वामी

ईश्वर दयाल गोस्वामी

कविता

November 19, 2016

भाईयों-बहिनों
को चाहिए,
भाई ज़िम्म़ेवार।
माता-पिता
को पुत्र पूरा।
समाज को
इंसान जो जिए
दूसरों के लिए ।
देश को चाहिए
सच्चा देशभक्त ।
मित्रों को चाहिए
मित्रता अनपेक्षित
सहयोग सहित ।
कला को
समर्पण ।
सभी को
आधा-अधूरा नहीं,
पूरा का पूरा चाहिए।
सभी को चाहिए,
अलग-अलग
समझौते अपने
ही अनुसार ।
केवल एक अकेले
ही आदमी से ।
सोचो !
कितने रूपों में बटकर ।
कितने भागों में कटकर ।
कितनी बार पिसकर ।
कहाँ-कहाँ से घिसकर ।
पुनर्जीवित-सी हो-हो कर,
खड़ी हो जाती है प्रतिभा ।
लेकिन- ज़रा
विचार करो कि-
जो प्रतिभाहीन हैं,
उनके खड़े न होने में
उपर्युक्त बातें
कितनी सहायक हैं. ?

Author
ईश्वर दयाल गोस्वामी
-ईश्वर दयाल गोस्वामी कवि एवं शिक्षक , भागवत कथा वाचक जन्म-तिथि - 05 - 02 - 1971 जन्म-स्थान - रहली स्थायी पता- ग्राम पोस्ट-छिरारी,तहसील-. रहली जिला-सागर (मध्य-प्रदेश) पिन-कोड- 470-227 मोवा.नंबर-08463884927 हिन्दीबुंदेली मे गत 25वर्ष से काव्य रचना । कविताएँ समाचार... Read more
Recommended Posts
हमें न पत्थरबाज चाहिए
होना सबका काज चाहिए, हमको ऐसा राज चाहिए जिसे फ़िक्र हो आम जनों की, सर पर उसके ताज चाहिए अन्दर बाहर सदा एक हो, हमको... Read more
संग फूलों के सफर में खार होना चाहिए
अब चमन दिल का मेरे गुलजार होना चाहिए फिर ग़मों से जिन्दगी में इतवार होना चाहिए -------?------- अब वतन में हर तरफ ही प्यार होना... Read more
अब वतन में हर तरफ ही प्यार होना चाहिए
ग़ज़ल ------------ अब चमन दिल का मेरे गुलजार होना चाहिए जिंदगी में अब ग़मे इतवार होना चाहिए -------?------- अब वतन में हर तरफ ही प्यार... Read more
ग़ज़ल
कभी कभी खुद को यूं समझाना चाहिए। सोच समझ कर दिल कहीं लगाना चाहिए। कुछ लोग समझते हैं खुद को ही भग्वान; आइना उनको भी... Read more